Software Engineering: COCOMO Model

Through software engineering, we understand that how we will develop and design any software, there are different methods of software development and design and different companies use different software development models in different ways of software development. There is a very important stage of software development, which we call cost estimation, it means that before we deal with the software on all of us, before we deal with the client, we estimate the cost of that software that how much the software will be priced. And for this we all study the Kokomo model, through the Kokomo model, we understand the distribution of price as well as its different factors, we will see how we can use it in software engineering. We will understand and we will see how different intermediate stage completing stage works in software engineering. We will try to understand how there are different classes of software engineering like or Genik Saini What is Embedded and Embedded System Software will also study about different tronics organic search engine will study about software about system and we will understand what is Kokomo model with semi detail as well as mediatest from us guys we will try to understand different things of software we will make a fort collection that how much effort will be taken in the design of any software and what will be the pricing we also study about how much time will take in software development software development and we have Which will be the best street key we understand about the things to do software development and we use in our software development model we will try to explain this to all of you people so that you can design the best software if you are senior Are you a software engineer and you have an associate software engineer, now you want to manage it, you want to automate your software development process or you are a junior software developer, you are all an engineer or Whether you are a staff software engineer or you are a software development engineer, you will explain to all the people, in this way you will be able to reach more and more people even through freelancer paper, how back end engineers and engineers will work, how computer programmers do programming We will also try to understand about them, we will also explain to you about different programming languages ​​so that you can understand how the senior and software development process is working and what are the different software development models. and which software would be better for coaching, which softwares are being used in engineering, what software should be used, what is the utility of engineering as well as understand how different software models like agile software development Works and will understand about different software development models and software.

सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग के माध्यम से हम यह समझ पाते हैं कि हम किसी भी सॉफ्टवेयर का डेवलपमेंट और डिजाइन किस प्रकार से करेंगे सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट और डिजाइन की अलग अलग तरीका है और अलग अलग कंपनी सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट की अलग अलग तरीके से अलग अलग सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट मॉडल का उपयोग करती है सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट की एक बहुत ही महत्वपूर्ण स्टेज है जिसे हम कहते हैं कॉस्ट ऐस्टीमेशन इसका मतलब है कि हम सब पर डिजाइन करने के पहले हम क्लाइंट से सॉफ्टवेयर की डील करने के पहले उस सॉफ्टवेयर की कॉस्ट को स्टीमेट करते हैं कि कितनी प्राइसिंग होगी सॉफ्टवेयर के डेवलपमेंट की और इसके लिए हम सभी लोग कोकोमो मॉडल का अध्ययन करते हैं कोकोमो मॉडल के माध्यम से हम प्राइस के डिस्ट्रीब्यूशन के साथ-साथ उसके अलग-अलग फैक्टर्स को भी समझते हैं हमें देखेंगे कि किस प्रकार से हम सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग में इसके उपयोग को समझ पाएंगे और हम देखेंगे कि सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग में अलग-अलग इंटरमीडिएट स्टेज कंपलीटिंग स्टेज किस प्रकार से काम करती है हम यह समझने का प्रयास करेंगे कि किस प्रकार से सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग की अलग-अलग क्लासेस होती है जैसे ऑर्गेनिक सैनी इंबेडेड और एंबेडेड सिस्टम सॉफ्टवेयर क्या होती है अलग ट्रॉनिक्स ऑर्गेनिक सर्च इंजन के बारे में भी अध्ययन करेंगे सॉफ्टवेयर के बारे में सिस्टम के बारे में अध्ययन करेंगे और हम यह समझेंगे कि कोकोमो मॉडल क्या होता है सेमी डिटेल के साथ साथ हम लोग से मेडिटेस्ट के अलग-अलग चीजों को समझने का प्रयास करेंगे हम एक फोर्ट कलेशन करेंगे कि किसी भी सॉफ्टवेयर के डिजाइन में कितनी मेहनत लगेगी और उसके क्या प्राइसिंग होगी हम इसके बारे में भी अध्ययन करते हैं कि सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट में कितने समय लगेंगे और हमारे पास कौन सी बेस्ट स्ट्रीट की होगी सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट करने की चीजों के बारे में हम समझते हैं और हम अपने सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट मॉडल में उपयोग में लाते हैं हम आप सभी लोगों को यह समझाने का प्रयास करेंगे ताकि आप अच्छी से अच्छी सॉफ्टवेयर डिजाइन कर सकें अगर आप सीनियर सॉफ्टवेयर इंजीनियर हैं और आपके पास एसोसिएट सॉफ्टवेयर इंजीनियर हैं अब उसे मैनेज करना चाह रहे हैं आप अपने सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट प्रोसेस को ऑटोमेटिक करना चाह रहे हैं या फिर आप जूनियर सॉफ्टवेयर डेवलपर हैं आप सब इंजीनियर हैं या फिर आप स्टाफ सॉफ्टवेयर इंजीनियर हैं या फिर आप सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट इंजीनियर हैं आप सभी लोगों को समझाएंगे इस प्रकार से फ्रीलांसर पेपर के माध्यम से भी आप अधिक से अधिक लोगों तक पहुंच पाएंगे बैक एंड इंजीनियर और इंजीनियर कैसे काम करेंगे कंप्यूटर प्रोग्रामर किस प्रकार से प्रोग्रामिंग करेंगे इनके बारे में भी हम समझने का प्रयास करते हैं हम अलग-अलग प्रोग्रामिंग लैंग्वेज के बारे में भी आपको समझाएंगे ताकि आपके समझ सके कि किस प्रकार से सीनियर और सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट प्रोसेस काम कर रही है और अलग-अलग सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट मॉडल्स कौन-कौन से हैं और कोचिंग करने के लिए कौन सी सॉफ्टवेयर बेहतर होगी कौन सी सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग में उपयोग किए जा रहे हैं सॉफ्टवेयर का उपयोग करना चाहिए इंजीनियरिंग की क्या उपयोगिता है और इसके साथ ही साथ यह समझेंगे कि अलग-अलग सॉफ्टवेयर मॉडल जैसे एजाइल सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट कैसे काम करती है और अलग-अलग सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट मॉडल और सॉफ्टवेयर के बारे में समझेंगे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: